Sunday, February 3, 2013

कॉफमैन ने बनाई थी आकाशवाणी की सिग्नेचर ट्यून


ऑल इंडिया रेडियो (आकाशवाणी) की ओपनिंग ट्यून किसने कंपोज की है ?
आकाशवाणी की ओपनिंग धुन को लेकर कई प्रकार की धारणाएं हैं, पर मेरी जानकारी के अनुसार चेक संगीतकरा वॉल्टर कॉफमैन के एक सोनाटा यानी बंदिश का एक हिस्सा यह धुन है। इसे 1936 या उसके आसपास कभी बनाया गया होगा। वॉल्टर कॉफमैन उस वक्त मुम्बई में ऑल इंडिया रेडियो की पश्चिमी संगीत शाखा से जुड़े थे। इस रचना में तानपूरा, वायोला और वायलिन का इस्तेमाल हुआ है।


धरती पर समंदर कैसे और कब बने
चूंकि बुध, शुक्र, मंगल या चन्द्रमा पर समुद्र नहीं हैं, इसलिए सवाल उठता है कि धरती पर सागर कैसे बने। एक अनुमान है कि धरती भारी उल्कापात के कारण गड़्ढे बने होंगे। पर पानी कहाँ से आया? इन बातों का जवाब देने के पहले हमें सौरमंडल पर ध्यान देना होगा। अब से तकरीबन 3.8 अरब वर्ष पहले जब सौरमंडल को बने तकरीबन एक अरब साल हुए थे, धरती पर सागर बने थे। सौरमंडल शुरू में धूल और गैस के गोले के रूप में शुरू हुआ था। धीरे धीरे अलग-अलग ग्रहों ने शक्ल ली जो ग्रह सूर्य के नज़दीक थे वे ज्यादा ठोस चट्टानों के बने थे। इनमें बुध, शुक्र, धरती और मंगल हैं। इसके बाहर के ग्रह वृहस्पति, शनि, यूरेनस और नेपच्यून गैस और बर्फ के गोले हैं। इन्हें जोवियन ग्रह कहते हैं। चार अरब साल पहले बेहद आग के गोले की तरह थी। उसकी सतह पर पानी था ही नहीं। धरती पर पानी दो तरह से आया होगा। एक तो उल्काओं की बारिश के कारण और दूसरे ज्वालामुखियों और पिघली चट्टानों से निकली गैसों के कारण। धरती की सतह जब तक 100 डिग्री के तापमान पर ठंडी नहीं हुई तब तक पानी गैस की शक्ल में ही था। तकरीबन 3.8 अरब साल पहले पानी कंडेस्ड होकर भारी बारिश के रूप में बरसने लगा। सैकड़ों-हजारों या लाखों साल तक बारिश होती रही। निचले इलाकों में पानी भरने लगा। यह पानी भाप बनकर फिर उठता और फिर बरसता। और नमक कहाँ से आया? वैज्ञानिकों का अनुमान है कि पुराने वक्त में धरती पर ज्वालामुखियों की बड़ी संख्या थी। वे वातावरण भाप के अलावा क्लोरीन छोड़ते थे। इससे हाइड्रोक्लोरिक अम्ल बना। इस अम्ल ने चट्टानों को गलाया, जिनसे सोडियम रिस कर बाहर आया। जब सोडियम और क्लोरीन के एटम मिले तो सोडियम क्लोराइड बना जो नमक है। 

बिना पायलट के एयरक्राफ्ट को क्या कहते हैं ?
इन्हें अनमैन्ड एरियल ह्वीकल (यूएवी) रिमोटली पायलटेड ह्वीकल कहते हैं। इनका इस्तेमाल आमतौर पर टोह लेने के लिए होता है। आजकल आप अफगानिस्तान में इस्तेमाल हो रहे ड्रोन विमानों का नाम सुनते हैं। ये भी इसी प्रकार के विमान हैं, जो बम भी ले जाते हैं। अब पायलट रहित हैलीकॉप्टर भी बन रहे हैं।

प्रत्यक्ष विदेशी निवेश यानी FDI किसे कहते हैं ?
प्रत्यक्ष विदेशी निवेश माने किसी देश के कारोबार या उद्योग में दूसरे देश की कम्पनियों द्वारा किया पूँजी निवेश। यह काम किसी कम्पनी को खरीदकर या उसकी हिस्सेदारी खरीदकर या कोई नई कम्पनी बनाकर भी किया जा सकता है।

सिक्सथ सेन्स क्या है ?
आमतौर पर मनुष्य की पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ मानी जाती हैं। सुनना, देखना, स्पर्श करना, सूँगना और स्वाद लेना। सिक्स्थ सेंस का आशय है कि भीतरी रूप से या अंतर्मन से अनुभव करना। मसलन सपनों का सच होना। इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।

भारत की पहली फिल्म कौन सी है.. और कब रिलीज हुई ?
भारत में पहली फिल्म दादा साहेब टोरने की मूक फिल्म श्री पुंडलीक थी, जो 18 मई 1912 को कॉरोनेशन सिनेमाटोग्राफ में रिलीज़ हुई थी। पर पहली फुल लेंग्थ मूवी 1913 में रिलीज़ हुई राजा हरिश्चन्द्र थी, जिसे दादासाहेब फाल्के ने बनाया था।

ज्योतिष, गणित है या विज्ञान ?
ज्योतिष में जो गणनाएं होती हैं, वे गणित है। पर यदि आप फलित ज्योतिष की बात करें कि वृहस्पति की या शनि की महादशा में ऐसा क्यों हैं, तो इसका आधुनिक विज्ञान से कोई रिश्ता नहीं है। अलबत्ता बहुत से लोग इसे विज्ञान मानते हैं, पर यह उनकी मान्यता है।

बादल फटने का मतलब क्या होता है ?
बादल फटने का मतलब एक छोटे से इलाके में कुछ मिनटों के भीतर भारी बरसात होना हैमैदानी क्षेत्रों की अपेक्षा पहाड़ी क्षेत्रों में बादल ज्यादा फटते हैं। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, प्रति घंटा 100 मिलीमीटर (3.94 इंच) के बराबर या उससे ज्यादा बारिश होना बादल फटना है। इस दौरान जो बादल बनता है वह जमीन से 15 किलोमीटर की ऊंचाई तक जा सकता है। बादल फटने के दौरान कुछ मिनटों में 20 मिलीमीटर से ज्यादा बरसात हो सकती है। जब वातावरण में बहुत ज्यादा नमी हो और बादलों को आगे बढ़ने की जगह न मिले तब ऐसा होता है। भारी मात्रा के साथ क्यूम्यूलोनिम्बस या कपासी वर्षी बादल जब ऊपर उठते हैं और उन्हें आगे बढ़ने का रास्ता नहीं मिलता तो उनमें मौजूद पानी नीचे गिर जाता है। यह एक तरीके से पानी भरे बैलून का फटना है। इसकी दूसरी वजहें भी होती हैं। जैसे कि सर्द और गर्म हवाओं का टकराना। 26 जुलाई 2005 को मुम्बई में इसी तरह से बादल फटा था।

भारत में पहला मोबाइल कॉल कब और किनके बीच किया गया था ?
यदि परीक्षण कॉलों को न गिनें तो औपचारिक रूप से पहली कॉल बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री ज्योति बसु ने कोलकाता से 31 जुलाई 1995 में केन्द्र के तत्कालीन दूरसंचार मंत्री सुखराम को कॉल किया था। उस दिन से मोजी टेल्स्ट्रॉ मोबाइल नेट सर्विस कोलकाता में शुरू हुई थी।

 MRP (मैक्सिमम रिटेल प्राइस) का मानक क्या है?
किसी भी वस्तु के मूल्य का मानक वस्तु के निर्धारण में लगी सामग्री, श्रम, टैक्स तथा पूँजी लगाने वाले का मुनाफा मिलाकर देखा जाता है। भारत में उपभोक्ता सामग्री (उत्पादन और अधिकतम मूल्य का अनिवार्य मुद्रण) अधिनियम 2006 के अनुसार देश में बिकने वाली उपभोक्ता सामग्री का अधिकतम मूल्य पैकेट पर लिखना अनिवार्य है।

क्या गीतकार शैलेन्द्र ने फिल्मों में भी अभिनय किया है.. फिल्मों के नाम बताएं?
सन 1954 में बनी राजकपूर की फिल्म बूट पॉलिश में शैलेन्द्र ने अभिनय भी किया था। इस फिल्म के गीत उन्होंने लिखे थे, जिनमें से नन्हें-मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या है... अमर हो गया।