Thursday, September 22, 2011

प्याज़ काटते वक्त आँखों में आँसू क्यों आते हैं?


जब हम प्याज़ काटते हैं तो आँखों में जलन क्यों होती है?
MAHJABI from BIJNOR


जब आप प्याज़ को काटते हैं तो उसके अंदर के कई सैल कटते हैं, जिनमें मिला अमीनो एसिड सल्फॉक्साइड और सल्फेनिक एसिड मिलकर प्रोपैनथियॉल एस-ऑक्साइड बनाते हैं। सल्फर के इस कम्पाउंड की तीखी भाप हमारी आँखों में जलन पैदा करती है। आँख की प्रकृति है कि उसमें कोई बाहरी तत्व आता है तो वह आँसू निकाल कर उसे धोने की कोशिश करती है।


हमें गुस्सा क्यों आता है?
RAJIV MAKWANA
गुस्सा एक भावनात्मक अभिव्यक्ति है। कोई बात पसंद न आने की प्रतिक्रिया। यह भावनात्मक बात है , पर गुस्से की शारीरिक प्रतिक्रिया भी होती है।  जब आप नाराज़ होते हैं तब आपका सिम्पैथेटिक नर्वस सिस्टम हृदय की गति को बढ़ा देता है। दरअसल आपका मस्तिष्क किसी स्थिति से लड़ने के लिए शरीर को तैयार करता है। शरीर का रक्त संचालन बढ़ जाता है। साथ ही किडनी के ऊपर एड्रेनल ग्लैंड्स से एड्रेनालाइन हार्मोन रिलीज़ हो जाते हैं, जिनसे मसल्स को अतिरिक्त शक्ति मिलती है। 

खून का कौन सा तत्व उसे लाल बनाता है?
 RISHABH




हमारी धमनियाँ नीली और खून लाल क्यों है?

हमारे खून में कई तरह के तत्व होते हैं। खून का आधे से ज्यादा भाग उसका तरल तत्व प्लाज्मा होता है, जिसका रंग पीला होता है। इसमें मिले लाल रक्त कण इसे लाल बनाते हैं। इन्हें कॉर्प्यूस्कल्स Corpuscles कहते हैं। इन लाल कणों का महत्वपूर्ण कारक हीमोग्लोबीन है। इन्हीं लाल कणों की पीठपर बैठकर ऑक्सीजन शरीर के विभिन्न हिस्सों तक जाती है। कार्बन डाई ऑक्साइड भी हीमोग्लाबीन के सहारे फेफड़ों तक पहुँचती है।


आसमान में तारों के बीच दूरियाँ क्या सीमित होती हैं?

हमारी आकाशगंगा में एक खरब से ज्यादा सितारे हैं। और अंतरिक्ष में कितनी आकाशगंगाएं हैं कहना मुश्किल है। हमें जो एक सितारा नज़र आता है अक्सर सैकड़ों या हजारों सितारों का नक्षत्र मंडल होता है। किसी रात हमें कम सितारे नज़र आते हैं कई बार बहुत ज्यादा। अमावस्या की रात जब चाँद नहीं होता तब हमें सितारे ज्याद नज़र आते हैं, क्योंकि हम उन्हें देख पाते हैं। इन सितारों के बीच दूरी का भ्रम हमारी आँखों को है। वास्तव में उनके बीच की दूरी का अनुमान लगाना मुश्किल है।

विश्व में दूसरी ठंडी जगह कौन सी है?
DEEPAK KUMAR / KALKAJI DELHI


रूस का याकुत्स्क शहर
यू ट्यूब पर देखें याकुत्स्क 

दूसरी ठंडी जगह से आपका तात्पर्य क्या है मैं समझ नहीं पाया। बहरहाल दुनिया में सबसे ठंडी जगहों का एक विवरण मैं दे रहा हूँ। दुनिया की सबसे ठंडी जगह यों तो अंटार्कटिक में रिज ए मानी जाती है। वहाँ का न्यूनतम तापमान -90 डिग्री सेल्शियस से भी नीचे चला जाता होगा। यह अनुमान है, क्योंकि इस 15000 मीटर ऊँची पहाड़ी पर मनुष्य के पैर आजतक नहीं पड़े हैं। अंटार्कटिक में ही रूस के स्टेशन वोस्तोक में -89.2 डिग्री सेल्शियस तक दर्ज किया गया है। रूस के साखा गणराज्य के गाँव ओमायाकोन को दुनिया का सबसे ठंडा आबाद क्षेत्र माना जाता है। आर्कटिक के पास के इस इलाके में जनवरी में तापमान -50 से -65 डिग्री के बीच रहता है। यों 6 फरबरी 1933 को यहाँ का तापमान -69.2 दर्ज किया गया था, जो दुनिया के किसी भी बसे हुए क्षेत्र का न्यूनतम दर्ज तापमान है। रूस के इसी साखा गणराज्य के याकुत्स्क शहर को दुनिया का सबसे ठंडा शहर माना जाता है। यहाँ -63 डिग्री के आसपास तक न्यूनतम तापमान पहुँच जाता है। यहाँ दिन में लोग अपनी कारों के इंजन बंद नहीं करते। स्कूलों से बच्चों के तभी बाहर आने दिया जाता है जब तापमान -52 डिग्री से नीचे हो। लोग बाहर चश्मा नहीं लगाते क्योंकि पहनने के बाद उन्हें उतारना मुश्किल होता है। वे जम जाते हैं।

अब हमें गिद्ध दिखाई नहीं पड़ते। वे कहाँ गए?
YAQOOB





गिद्धों की संख्या पिछले एक दशक में तेजी से कम हुई है और अब वे लगभग लुप्त हो गए हैं। ऐसा माना जाता है कि जानवरों को दी जाने वाली दवा डिक्लोफेनैक इनगिद्धों को रास नहीं आती। मरे हुए जानवरों का गोश्त खाने वाले गिद्ध इस दवाई के कारण मरते गए। भारत सरकार इसे देर से समझ पाई है। अब यह दवा जानवरों को देने पर पाबंदी लगा दी गई है।

सबसे पहले एसएमएस कब भेजा गया, किस नेटवर्क से किस नेटवर्क पर भेजा गया?
RAHUL SINGH, RAJDHANI PARK

नील पैपवर्थ और रिचर्ड जार्विस का एक ताज़ा चित्र

टेक्स्ट मैसेज की अवधारणा तो अबसे करीब सवा सौ साल पहले बन गई थी। इसे शुरू में रेडियो टेलीग्राफी कहा जाता था। मोबाइल फोन से टेक्स्ट मैसेज भेजने का विचार 1985 के आसपास बना और 3 दिसम्बर 1992 को इंगलैंड में वोडाफोन के नेटवर्क पर सेमा उद्योग समूह के नील पैपवर्थ ने वोडाफोन के रिचर्ड जार्विस को एसएमएस भेजा। संदेश था मैरी क्रिसमस।


लेज़र का फुल फॉर्म क्या है?
NEELRATAN DAS DELHI

Light Amplification (by) Stimulated Emission (of) Radiation


अंग्रेज भारत कब आए?

भारत का यूरोप से काफी पुराना है। कहते हैं करीब एक हजार साल पहले भारत से रोमां जिप्सी यूरोप गए थे। औपचारिक रूप से अंग्रेजों के आगमन के पीछे कारोबारी कारण थे। यों अंग्रेजों के आने के पहले भारत में फ्रांसीसी, पुर्तगाली और डच लोग आ चुके थे। बहरहाल सन 1588 में लंदन के व्यापारियों ने महारानी एलिजाबेथ प्रथम से प्रार्थना की कि हमें हिन्द महासागर तक जाने की अनुमति दी जाए। अनुमति मिलने पर तीन जहाज आशा अंतरीप के रास्ते अरब सागर में आए। इनमें से एक एडवर्ड बोनावेंचर कन्याकुमारी आया। इसके बाद 1956 में तीन जहाज और चले, पर वे समुद्र में कहीं खो गए। फिर लंदन के व्यापारियों ने मिलकर एक संस्था बनाने का निश्चय किया। 31 दिसम्बर 1600 को महारानी ने एक संस्था बनाने की अनुमति दी जिसका नाम था, Governor and Company of Merchants of London trading with the East Indies। 1608 में अंग्रेजों ने सूरज में एक ट्रांजिट पाइंट बनाया। फिर मछली पत्तनम में।


पहली हिन्दी फिल्म कौन सी थी?
Sudipto ray--Vaishali

1931 में बनी अर्देशिर ईरानी की आलमआरा पहली सवाक फिल्म थी।

एफएम गोल्ड के कार्यक्रम बारिश सवालों की के अंश

1 comment: