Friday, October 11, 2013

भारत से किन किन लोगों को नोबेल पुरस्कार मिले हैं?

रोनाल्ड रॉस
भारत से किन किन लोगों को नोबेल पुरस्कार मिले हैं?
नोबेल सम्मान पाने वाले भारतीयों के नाम इस प्रकार हैः-
1902 रोनाल्ड रॉस            चिकित्सा                भारत में जन्मे विदेशी
1907 रुडयार्ड किपलिंग      साहित्य                  भारत में जन्मे विदेशी
1913 रवीन्द्रनाथ ठाकुर      साहित्य                  भारतीय नागरिक
1930 सीवी रामन             भौतिक विज्ञान        भारतीय नागरिक
1968 डॉ हरगोविन्द खुराना चिकित्सा               भारत में जन्मे अमेरिकी नागरिक
1979 मदर टेरेसा              शांति पुरस्कार         विदेश में जन्मीं, भारत में निवास
1983 सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर  भौतिक विज्ञान        भारत में जन्मे अमेरिकी नागरिक
1998 अमर्त्य सेन               अर्थशास्त्र                भारतीय नागरिक
2001 वीएस नाइपॉल         साहित्य                भारतीय मूल के ब्रिटिश नागरिक
2009 वेंकटरामन रामकृष्णन  रसायन शास्त्र       भारत में जन्मे अमेरिकी नागरिक

EVM यानी इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन किसने बनाई और देश में इसका पहली बार कब इस्तेमाल किया गया ?
भारत में सन 1999 के लोकसभा चुनाव में आंशिक रूप से और 2004 के चुनाव में पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन का इस्तेमाल किया गया था। उस चुनाव में 10 लाख से ज्यादा वोटिंग मशीनों का इस्तेमाल किया गया। वोटिंग मशीनें बनाने की कोशिशें उन्नीसवीं सदी से चल रहीं थीं। अमेरिका में वोटिंग मशीन का पेटेंट भी कराया गया था। वह वोटिंग मशीन इलेक्ट्रॉनिक मशीन नहीं थी। पंचिंग मशीन थी। भारत में चुनाव आयोग ने वोटिंग मशीन का निर्माण भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, बेंगलुरु और इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, हैदराबाद की मदद से किया था। यों सन 1980 में पहली वोटिंग मशीन बनाई गई थी। पहली बार इसका इस्तेमाल सन 1981 में केरल के उत्तरी पारावुर विधानसभा क्षेत्र के 50 पोलिंग स्टेशनों पर किया गया था।

नवरात्र में षष्ठी का क्या महत्व है ?
षष्ठी से बंगाल में दुर्गा पूजा की शुरुआत होगी। उत्सव तब शुरू होता है, जब षष्ठी तिथि को बेटी (मां दुर्गा) मायके आती है। बेटी आएगी तो व्यस्तताएं भी बढ़ेंगी ही। नवरात्रि पूजन में छठे दिन कात्यायनी की पूजा होती है। माना जाता है कि महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर देवी ने उनके घर पुत्री के रूप में जन्म लिया था।

क्या डांडिया खेलने की भी ट्रेनिंग होती है.. क्या अहमियत है इसकी..?
यह एक प्रकार का सामूहिक नृत्य है। पहले यह गुजरात तक सीमित था, पर हाल के वर्षों में इसका प्रचलन देशभर में हो गया है। कहा जाता है कि यह दुर्गा की पूजा से जुड़ा नृत्य है और इसमें लकड़ी की डंडियां तलवार की प्रतीक हैं। यह दुर्गा और महिषासुर के युद्ध को व्यक्त करता है। दूसरी ओर यह मान्यता भी है कि इसकी प्रेरणा भगवान कृष्ण की रासलीला से मिली है। मूलतः राधा-कृष्ण का नृत्य है। इसमें कदमों का संचालन और हाथ में डांडिया को अपने दोनों ओर के साथियों के साथ टकराने का अभ्यास करना होता है। यह सामान्य से प्रशिक्षण से सम्भव है। अब चूंकि यह काम फैंसी हो गया है इसलिए इसकी विशेष ट्रेनिंग भी होने लगी है।

तेलंगाना इलाके को तेलंगाना क्यों कहते हैं ?
भारत के आन्ध्र प्रदेश राज्य का एक क्षेत्र है, जिसे एक नया राज्य बनाने का फैसला हुआ है। इस इलाके में मान्यता है कि इस इलाके में लिंग के रूप में शिव तीन पर्वतों पर प्रकट हुए। ये हैं कालेश्वरम, मल्लिकार्जुन और द्राक्षाराम। ये पर्वत इस इलाके की सीमा बनाते हैं और इसीलिए इसे त्रिलिंग देश कहा जाता है जो तेलंगाना हो गया है। तेलुगू शब्द की उत्पत्ति भी इसी त्रिलिंग से है। यह पराधीन भारत के हैदराबाद नामक राजवाडे के तेलुगूभाषी क्षेत्रों से मिलकर बना है। 'तेलंगाना' शब्द का अर्थ है- 'तेलुगूभाषियों की भूमि' । तेलुगु शब्द का मूलरूप संस्कृत में "त्रिलिंग" है। इसका तात्पर्य आंध्र प्रदेश के श्रीशैल के मल्लिकार्जुन लिंग, कालेश्वर और द्राक्षाराम के शिवलिंग से है। इन तीनों सीमाओं से घिरा देश त्रिलिंगदेश और यहाँ की भाषा त्रिलिंग (तेलुगु) कहलाई।

तेनालीराम कौन थे?
तेनाली रामकृष्ण, तेनाली रामलिंगम या तेनाली राम तमिल, तेलुगु और कन्नड़ लोककथाओं का एक पात्र है। सोलहवीं सदी में दक्षिण भारत के विजयनगर राज्य में राजा कृष्णदेव राय हुआ करते थे। तेनालीराम उनके दरबार के कवि थे और वे अपनी समझ-बूझ और हास-परिहास के लिए प्रसिद्ध थे। उनकी खासियत थी कि गम्भीर से गम्भीर विषय को भी वह हंसते-हंसते हल कर देते थे। विजयनगर के राजा के पास नौकरी पाने के लिए उन्हें बहुत संघर्ष करना पड़ा। कई बार उन्हें और उनके परिवार को भूखा भी रहना पड़ा, पर उन्होंने हार नहीं मानी और कृष्णदेव राय के पास नौकरी पा ही ली। तेनालीराम की गिनती राजा कृष्णदेव राय के आठ दिग्गजों में होती थी।

क्या ज्योतिषशास्त्र को विज्ञान का दर्जा हासिल है?
अंतरिक्ष की संरचना और ग्रह-नक्षत्रों की गति का अध्ययन विज्ञान है। फलित ज्योतिष यानी ग्रह-नक्षत्रों के संचरण का हमारे जीवन पर प्रभाव का अध्ययन करने वाले शास्त्र का अध्ययन विज्ञान की परिभाषा में नहीं आता। भले ही गणना के लिए इस्तेमाल में आने वाला गणित विज्ञान हो।

रमैया वस्तावैया का क्या मतलब होता है?
रामैया वस्तावैया का मतलब है राम या रामैया, क्या तुम आ रहे हो? तेलगू के इन शब्दों का इस्तेमाल शैलेन्द्र और शंकर-जयकिशन ने किया और श्री 420 के मार्फत एक यादगार गीत बना दिया। कहते हैं कि कभी शैलेन्द्र ने अपनी हैदराबाद यात्रा के दौरान ये पंक्तियाँ सुनी थीं। उन्हें ये भा गईं और मौका लगने पर इन्हें इस गीत में पिरो दिया।

कार इंडस्ट्री में सबसे आगे कौन सा देश है? सबसे ज्यादा कारें किस देश में चलती हैं?

मोटरगाड़ियों के उत्पादन के विचार से अब दुनिया का नम्बर एक देश चीन है। पहले अमेरिका नम्बर एक देश होता था, फिर जापान आगे निकल गया। अब चीन सबसे आगे है जहाँ सन 2011 में एक करोड़ 81 लाख मोटरगाड़ियाँ बनाई गईं। जबकि उस साल अमेरिका में मात्र 86 लाख और जापान में 83 लाख। इसके बाद जर्मनी और दक्षिण कोरिया का नम्बर है जहाँ क्रमशः 63 लाख और 46 लाख गाड़ियाँ बनीं। इसके बाद भारत का नम्बर है जहाँ 39 लाख गाड़ियाँ बनीं। सड़क पर चलने वाली कारों की संख्या सबसे ज्यादा अमेरिका में ही होगी जहाँ प्रति हजार आबादी पर लगभग 800 कारें हैं। जापान में प्रति हजार की आबादी पर लगभग 600, चीन में 85 और भारत में 18 कारें हैं। 

3 comments:

  1. आज की विशेष बुलेटिन जेपी और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. बहुत बढिया और रोचक जानकारी।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी जानकारी के लिए आभार .
    नई पोस्ट : मंदारं शिखरं दृष्ट्वा
    नई पोस्ट : प्रिय प्रवासी बिसरा गया
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ .

    ReplyDelete