Friday, July 13, 2012

कोल्ड ड्रिंक्स की बोतलों पर लिखा एफपीओ क्या होता है?

ज़मीन पर, हवा में और पानी में सबसे तेज रफ्तार वाले जीव कौन हैं ? 
सुरेश सिंघल, रायपुर
सबसे तेज रफ्तार वाला जीव तो इंसान ही है, पर वह अपनी टेक्नॉलजी की बदौतल। बहरहाल जमीन पर चीता (100 किमी), हवा में पेरेग्राइन फैल्कन या बाज (322 किमी) और पानी में सेलफिश (110 किमी)।

अगर हम जमीन में सुराख गहरा करते जाएं.. तो सबसे अंत में यानी उस पार क्या मिलेगा..।
विक्रम सिंह, भोपाल
आप कभी पृथ्वी में गड्ढा करने की कोशिश करें तो बहुत सफल नहीं होंगे। उपकरणों की मदद से भी दुनिया के वैज्ञानिक 8 किमी की गहराई तक के नमूने ले पाए हैं। दुनिया की सबसे गहरी खानें 3 किमी तक गहरी हैं। अलबत्ता वैज्ञानिक जानकारी के अनुसार धरती की सतह से उसके केन्द्र तक की दूरी तकरीबन 6400 किमी है। इसमें चार परतें खासतौर से हैं। सबसे ऊपरी परत को क्रस्ट कहते हैं। यह करीब 15 किमी गहरी है। उसके बाद है मैंटल जो करीब ढाई हजार किमी तक है। इसमें भी चट्टानें हैं, पर जैसे-जैसे गहराई पर जाएंगें चट्टाने गर्म होती जाएंगी। इसके बाद है बाहरी कोर जो पिघले लावा की है। लावा मुख्य रूप से लोहा और निकल है। इसके बाद सबसे अंदर की कोर ठोस लोहे और निकल की है। इस जगह पर तापमान नौ हजार डिग्री से ऊपर होता है। यानी कि सूरज की सतह के तापमान के आसपास।

एफपीओ क्या होता है? जो साधारण पेय की बोतलों पर अंकित होता है। इसे कौन ले सकता है?
- भोजराज पाठक, जोधपुर

केवल पेय ही नहीं, किसी भी प्रकार की प्रसंस्करित खाद्य या पेय सामग्री को पैकेज कर बेचने के लिए भारत में इस निशान को लगाना अनिवार्य है। एफपीओ का अर्थ है कि पैकेजबंद सामग्री को तैयार करते वक्त खाद्य सुरक्षा तथा मानक नियमम 2006 के अंतर्गत निर्धारित मानकों को पूरा किया गया है। यह मानक हालांकि फ्रुट प्रोडक्ट्स ऑर्डर के अंतर्गत 1955 से चला आ रहा है, पर सन 2006 के कानून के बाद देश में खाद्य सामग्री की प्रोसेसिंग का उद्योग शुरू करने के पहले एफपीओ लाइसेंस लेना ज़रूरी है। इसका अर्थ है कि उक्त खाद्य सामग्री एक निर्धारित हाइजिनिक माहौल में तैयार की गई है।

हमारे देश की बढ़ती आबादी की दर घट तो रही है। पर ये स्थिर कब होगी ?
अंकित शर्मा, इन्दौर

भारत सरकार का अनुमान था कि सन 2045 तक देश की आबादी स्थिर हो जाएगी, पर अब लगता है यह 2060 तक होगी। 
राजस्थान पत्रिका के नॉलेज कॉर्नर में प्रकाशित

No comments:

Post a Comment