Sunday, April 1, 2018

कॉमनवैल्थ खेल क्या हैं?


कॉमनवैल्थ गेम्स हर चार साल में होने वाला अंतरराष्ट्रीय खेल समारोह है जो ओलिम्पिक खेलों के तर्ज़ पर होता है. इसमें भाग लेने देश कॉमनवैल्थ के सदस्य हैं. कॉमनवैल्थ एक अंतरराष्ट्रीय संगठन हैं जिसके 53 सदस्य हैं. ज्यादातर देश किसी न किसी रूप में ब्रिटिश साम्राज्य के अंग रहे थे. कॉमनवैल्थ का विकास सन 1887 से शुरू हुई कॉलोनियल कांफ्रेंसों से हुआ था, जिनका नाम 1911 से इम्पीरियल कांफ्रेंस हो गया. 1926 की बालफोर घोषणा के बाद इसे ब्रिटिश कॉमनवैल्थ ऑफ नेशंस कहा जाने लगा. 

सन 1891 में रेवरेंड एस्ले कूपर ने द टाइम्स, लंदन में लेख लिखकर सुझाव दिया कि ब्रिटिश साम्राज्य में सौहार्द कायम रखने के लिए हर चार साल में एक अखिल ब्रितानी-आंग्ल समारोह होना चाहिए. इस समारोह के बारे में चर्चा चलती रही और इस सुझाव के बीस साल बाद 1911 में जब जॉर्ज पंचम का राज्याभिषेक हो रहा था, अंतर-साम्राज्य चैम्पियनशिप हुई. इसमें ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका और यूके की टीमों ने हिस्सा लिया. इसके बाद इन खेलों को लेकर विचार चलता रहा और अंतत: 1928 में मेल्विल मार्क्स रॉबिनसन नाम के सज्जन को जिम्मेदारी दी गई कि वे इन खेलों का आयोजन करें. 1930 में कनाडा के हैमिल्टन शहर में पहले ब्रिटिश एम्पायर गेम्स हुए.

1954 में इन खेलों का नाम ब्रिटिश एम्पायर एंड कॉमनवैल्थ गेम्स रखा गया. 1970 में इनका नाम ब्रिटिश कॉमनवैल्थ गेम्स और 1978 में कॉमनवैल्थ गेम्स हो गया. इन खेलों की खासियत है कि 53 सदस्य देशों की 71 के आसपास टीमें इनमें शामिल होतीं हैं. युनाइटेड किंगडम के चारों गृह देश इंग्लैंड, स्कॉटलैंड, वेल्स और उत्तरी आयरलैंड इनमें शामिल होते हैं. ऑस्ट्रेलिया की टीम के अलावा उसके नोरफॉक आयलैंड की अलग टीम इनमें शामिल होती है. न्यूजीलैंड के अलावा कुक आइलैंड्स और नियू फ्री एसोसिएशन की टीमें अलग से शामिल होती हैं. सन 2010 में दिल्ली में न्यूज़ीलैंड के अधीनस्थ तोकेलू की टीम ने भी हिस्सा लिया. इस तरह अनेक ऐसी टीमें भी इन खेलों में आती हैं, जो पूरी तरह स्वतंत्र देश नहीं हैं.

अब ये खेल कहाँ हो रहे हैं?

इस साल 21 वे कॉमनवैल्थ गेम्स ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड प्रांत के गोल्ड कोस्ट में 4 से 15 अप्रैल तक होंगे. यह पाँचवाँ मौका है, जब ऑस्ट्रेलिया में ये खेल हो रहे हैं. सन 2010 में दिल्ली में 19वें गेम्स हुए. उसके बाद 2014 में स्कॉटलैंड के ग्लासगो में 20वें खेल हुए. गोल्ड कोस्ट के बाद 2022 के खेल इंग्लैंड के बर्मिंघम में होंगे. एशिया के दो देशों में ये खेल हो चुके हैं. सन 2010 में दिल्ली के पहले 1998 में क्वालालम्पुर में ये खेल हुए थे.

गोल्ड कोस्ट शहर की क्या खासियत है?

गोल्ड कोस्ट ऑस्ट्रेलिया के अपेक्षाकृत नए शहरों में एक है. यह ब्रिसबेन से करीब 66 किलोमीटर दूर है. सन 2016 की जनगणना में इस शहर की आबादी 6,38,090 थी. यह ऑस्ट्रेलिया का छठा सबसे बड़ा शहर है. शुरू में इस इलाके में रहने के लिए युरोपियन लोग नहीं आए थे. सन 1823 में जॉन ओक्सले नामक एक अंग्रेज मरमेड बीच पर आए. यहाँ के लाल देवदार ने लोगों का ध्यान खींचा. सन 1875 में साउथ पोर्ट का सर्वे हुआ और यह छुट्टियाँ बिताने की जगह के रूप में विकसित होने लगा. आज यह पर्यटकों का शहर है. यहाँ के बीच पर सर्फिंग का आनंद लोग लेते हैं. देश के मनोरंजन उद्योग ने यहाँ अड्डा जमाया है. अब फिल्म और म्यूजिक उद्योग के लिए इस शहर को जाना जाता है.

चुनाव पांच साल बाद ही क्यों होते हैं?

हमारे संविधान के अनुच्छेद 63(2) के अनुसार लोकसभा का कार्यकाल पाँच वर्ष है। इसलिए चुनाव पाँच साल में होते हैं। विधानसभाओं के साथ भी ऐसा ही है। लोकसभा पाँच साल के पहले भी भंग की जा सकती है और आपत् काल में उसका कार्यकाल बढ़ाया भी जा सकता है। राज्यसभा में एक सदस्य का कार्यकाल छह साल होता है, पर चुनाव हर दो साल में होते हैं।






1 comment:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन विश्व ऑटिज़्म जागरूकता दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete