Friday, January 11, 2019

ताइवान क्या स्वतंत्र देश है?




चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने ताइवान के लोगों से कहा है कि उनका हर हाल में चीन के साथ 'एकीकरण' होकर रहेगा. चीन मानता है कि ताइवान उसका टूटा हुआ हिस्सा है. शी चिनफिंग के भाषण के एक दिन पहले 2 जनवरी को ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग-वेन ने कहा कि हम चीन की शर्तों पर एकीकरण के लिए कभी तैयार नहीं होंगे. चीन को 2.3 करोड़ लोगों की स्वतंत्रता का सम्मान करना चाहिए. चीन सरकार एक चीन नीति को बहुत महत्व देती है. जो देश इसे स्वीकार नहीं करता उससे राजनयिक सम्बन्ध नहीं रखती. उसने धमकी दे रखी है कि यदि यह देश औपचारिक स्वतंत्रता की घोषणा करेगा, तो हम फौजी कार्रवाई करेंगे. भारत भी एक चीन नीति को स्वीकार करता है. दुनिया के केवल 17 देशों के साथ इसके रिश्ते हैं. चीन मानता है कि ताइवान को चीन में शामिल होना होगा, भले ही हमें इसके लिए बल प्रयोग क्यों न करना पड़े.



चीन और इसमें क्या अंतर है?



इसका आधिकारिक नाम है रिपब्लिक ऑफ़ चाइना. सन 1912 से यह मेनलैंड चीन का नाम है, जो 1950 तक सर्वमान्य था. आज मेनलैंड चीन का नाम पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना है, जो 1949 के बाद रखा गया. पहले यह फॉरमूसा नाम से प्रसिद्ध था और 17वीं सदी से पहले चीन से अलग था. 17वीं सदी में डच और स्पेनिश उपनिवेशों की स्थापना के बाद यहाँ चीन से हान लोगों का बड़े स्तर पर आगमन हुआ. सन 1683 में चीन के अंतिम चिंग राजवंश ने इस द्वीप पर कब्जा कर लिया. उन्होंने चीन-जापान युद्ध के बाद 1895 में इसे जापान से जोड़ दिया. उधर चीन में 1912 में चीनी गणराज्य की स्थापना हो गई, पर ताइवान, जापान के अधीन रहा. सन 1945 में जापान के समर्पण के बाद यह चीनी गणराज्य के हाथों में चला गया. उन दिनों चीन में राष्ट्रवादी पार्टी कुओमिंतांग और कम्युनिस्टों के बीच युद्ध चल रहा था. सन 1949 में माओ-जे-दुंग के नेतृत्व में कम्युनिस्टों ने च्यांग काई शेक के नेतृत्व वाली कुओमिंतांग पार्टी की सरकार को परास्त कर दिया. माओ के पास नौसेना नहीं थी, इसलिए वे समुद्र पार करके ताइवान पर कब्जा नहीं कर सके. ताइवान तथा कुछ द्वीप कुओमिंतांग के कब्जे में ही रहे.



ताइवान बचा कैसे रहा?



काफी समय तक दुनिया ने साम्यवादी चीन को मान्यता नहीं दी. पश्चिमी देशों ने ताइवान को ही चीन माना. संयुक्त राष्ट्र के जन्मदाता देशों में वह शामिल था. सन 1971 तक साम्यवादी चीन के स्थान पर वह संरा का सदस्य था. साठ के दशक में इस देश ने बड़ी तेजी से आर्थिक और तकनीकी विकास किया. अस्सी और नब्बे के दशक में कुओमिंतांग के अधीन एक दलीय सैनिक तानाशाही की जगह यहाँ बहुदलीय प्रणाली ने ले ली. यह देश इलाके के सबसे समृद्ध और शिक्षित देशों में गिना जाता है. सन 1971 के बाद से यह संयुक्त राष्ट्र का सदस्य नहीं है. देश की आंतरिक राजनीति में भी चीन में शामिल हों या नहीं हों, इस आधार पर राजनीतिक दल बने हैं.













22 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 74वीं पुण्यतिथि - महान क्रान्तिकारी एवं स्वतंत्रता संग्रामी रासबिहारी बोस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. I am sure this piece of writing has touched all the internet users,
    its really really good piece of writing on building up new blog.
    It is the best time to make a few plans for the future
    and it is time to be happy. I’ve learn this put up and if I
    could I wish to suggest you some attention-grabbing things or suggestions.
    Perhaps you could write subsequent articles referring to this article.
    I wish to learn even more things about it! Everyone loves
    what you guys are usually up too. This sort of clever work and reporting!
    Keep up the amazing works guys I've added you guys to my personal blogroll.
    http://cspan.co.uk/

    ReplyDelete
  3. Hi there! I know this is somewhat off topic but I was wondering if you knew where I could
    get a captcha plugin for my comment form?
    I'm using the same blog platform as yours and I'm having
    problems finding one? Thanks a lot!

    ReplyDelete
  4. Have you ever considered about including a little bit more than just your articles?
    I mean, what you say is important and everything. Nevertheless think about if you added some great photos or video clips to give your posts more, "pop"!
    Your content is excellent but with images and videos, this blog could undeniably be one of the greatest in its niche.
    Wonderful blog!

    ReplyDelete
  5. Loan repayment: present a quick written assertion indicating how the loan can be repaid including reimbursement sources and time requirement.

    ReplyDelete
  6. If you desire to increase your knowledge only keep visiting this site and be updated with the
    latest news update posted here.

    ReplyDelete
  7. Lower the flower stems at an angle, in order
    that the underside of the stem won't relaxation flat towards the bottom of the vase.

    ReplyDelete
  8. Great post! We are linking to this great post on our site.

    Keep up the good writing.

    ReplyDelete
  9. Hi, I do think this is a great web site. I stumbledupon it ;) I am going to
    return yet again since i have saved as a favorite it. Money and freedom is the best
    way to change, may you be rich and continue to help others.

    ReplyDelete
  10. I blpg often and I really thank you for yourr information. This great article
    has truly peaked my interest.I am going to take a notte of your website annd keep checking
    for new information about once per week. I opted
    in for your Feed as well.

    ReplyDelete
  11. Very nice post! I really like your blog.You’ve done a good job.
    Keep going... :)

    ReplyDelete
  12. I have been exploring for a little bit for any high quality articles or weblog
    posts in this kind of space . Exploring in Yahoo I
    at last stumbled upon this site. Studying this information So i'm
    glad to express that I've an incredibly just right uncanny feeling I discovered just what I needed.
    I so much certainly will make sure to do not
    fail to remember this site and give it a glance on a relentless basis.

    ReplyDelete
  13. What a information of un-ambiguity and preserveness of
    precious familiarity on the topic of unpredicted feelings.

    ReplyDelete
  14. Hello, after reading this amazing article i am as well happy to share
    my familiarity here with mates!

    ReplyDelete
  15. Thank youu ffor this specific info.I genuinely treasure your piece off work, Great post!

    ReplyDelete
  16. Right away I am going to do my breakfast, afterward having my breakfast
    coming over again to read more news.

    ReplyDelete
  17. Hurrah! In the end I got a webpage from where I know how to
    really obtain useful facts regarding my study
    and knowledge.

    ReplyDelete
  18. Hi it'ѕme, I am aⅼso visiting this website on a regular basiѕ,
    this website is truly nice and the viеwers are in fаct
    shаring pleasant thoughts.

    ReplyDelete
  19. Ι am really grateful to the holder of this sіtfe who has
    shared this enormous atticle at at this time.

    ReplyDelete
  20. Please keewp us up to date like this. Thhanks for sharing.

    ReplyDelete
  21. मोटूरि सत्यनारायणआपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 24वीं पुण्यतिथि - मोटूरि सत्यनारायण और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  22. This is very interesting, You're a very skilled blogger.
    I have joined your rss feed and look forward to seeking more of your fantastic post.
    Also, I have shared your website in my social networks!

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...