Saturday, July 2, 2011

क्या 2012 में दुनिया तबाह हो जाएगी?

क्या सन 2012 में दुनिया का अंत हो जाएगा?

पहले यह पता लगाने का प्रयास करें कि ऐसी धारणा क्यों बनी कि  21 दिसम्बर 2012 को दुनिया खत्म हो जाएगी। मध्य अमेरिका में यूरोपीय लोगों के आने के पहले मेसोअमेरिकन लांग काउंट कैलेंडर प्रचलित था। इस कैलेंडर में 7200 दिन का एक एक कातुन और 1 लाख 44 हजार दिन का एक बक्तुन होता है। प्राचीन माया सभ्यता के अवशेषों में ऐसा कैलेंडर पत्थरों में खुदा मिलता है। इन शिला लेखों में केवल 13वें बक्तुन तक की तारीखें दर्ज हैं। 13वाँ बक्तुन 21 दिसम्बर 2012 को खत्म होगा। इसलिए यह धारणा पैदा कर ली गई कि उसके बाद दुनिया नहीं रहेगी। कुछ लोगों ने इसके अंतिरिक्षीय कारण भी खोज लिए। संयोग से उस दौरान अगले सोलर मैक्स की शुरुआत होने वाली है। सोलर मैक्स यानी जब सूर्य की गतिविधियाँ सबसे ज्यादा होती हैं। कुछ का कहना है कि पृथ्वी एक ब्लैक होल में समा जाएगी। या निबिरू नाम के ग्रह से टकरा जाएगी। मेरे विचार से यह सब बातें गलत साबित होंगी। इसे इस तरीके से क्यों न देखें कि इस कैलेंडर में चौदहवां बक्तुन और एक बेहतर दौर शुरू होगा।


इस सिलसिले में एक लेख यहाँ पढ़ें


भारत में सबसे महंगी कार और सबसे महंगी बाइक कौन सी है?


 भारत में सबसे महंगी कार इसी साल ब्रिटिश सुपरकार मेकर एस्टन मार्टिन लेकर आए हैं। उन्होंने अप्रेल में सुपर कारों की एक रेंज भारत में पेश की है। इनमें सबसे महंगी हायपर कार वन-77 है, जिसकी कीमत 20 करोड़ रुपए है। इस रेंज में केवल 77 कारें बनाई गई हैं, जिनमें से पाँच की बिक्री अभी होनी है।


भारत में उपलब्ध सबसे महंगी बाइक सम्भवतः सुजुकी जीएसएक्स-आर 1000 है, जिसे पिछले साल भारत में बिक्री के लिए पेश किया गया था। इसकी कीमत करीब 14 लाख रु है।


बर्फ खाने की आदत से कोई नुकसान है?

बर्फ खाने से सामान्यतः कोई नुकसान नहीं होना चाहिए, पर ज्यादा खाने से नुकसान होने का अंदेशा है। पहला अंदेशा संक्रमण का है। हो सकता है कि जिस पानी से बर्फ बना है उसमें संक्रमण हो। ऐसे वायरस और बैक्टीरिया भी हैं, जो कम तापमान में भी खत्म नहीं होते। इसके अलावा बर्फ के लगातार सेवन से फेफड़ों में पानी भर सकता है, जिससे निमोनिया होने का खतरा है। 


डिक्शनरी की शुरुआत कैसे हुई?
सीरिया में प्राप्त इस पट्टिका में सुमेरियाई और अक्कादियाई शब्दों की सूची है।
अभी तक प्राप्त  किसी शब्दकोश  की यह प्राचीनतम प्रति है। 


जैसे-जैसे भाषा का विकास होता गया वैसे-वैसे नए शब्दों की रचना भी होती गई होगी। सभी शब्दों को एक साथ याद करके रखा नहीं जा सकता था इसलिए शब्दों के संग्रह की ज़रूरत महसूस की गई होगी। लिखने और छापने की कला के विकसित होने पर कोशकार कला का विकास और हुआ होगा। 
शब्द संकलन की भारतीय परम्परा बहुत समृद्ध है। हमारी परंपरा वेदों जितनीकम से कम पाँच हज़ार सालपुरानी है। प्रजापति कश्यप का निघंटु संसार का प्राचीनतम शब्द संकलन है। इस महान शृंखला की सशक्त कड़ी है छठी या सातवीं सदी में लिखा अमर सिंह कृत नामलिंगानुशासन या त्रिकांड जिसे सारा संसार अमरकोश के नाम से जानता है। भारत के बाहर संसार में शब्द संकलन का एक प्राचीन प्रयास अक्कादियाई संस्कृति की शब्द सूची है। यह शायद ईसा पूर्व सातवीं सदी की रचना है। ईसा से तीसरी सदी पहले की चीनी भाषा का कोश है ईर्या। अरबी-फारसी शब्दकोश भी उस काल के हैं।


आधुनिक कोशों की नीवँ डाली इंग्लैंड में 1755 में सैमुएल जानसन ने। उन की डिक्शनरी सैमुएल जॉन्संस डिक्शनरी ऑफ़ इंग्लिश लैंग्वेज ने कोशकारिता को नए आयाम दिए। इस में परिभाषाएँ भी दी गई थीं। असली आधुनिक कोश आया इक्यावन साल बाद 1806 में अमरीका में नोहा वैब्स्टर्स की नोहा वैब्स्टर्स ए कंपैंडियस डिक्शनरी आफ़ इंग्लिश लैंग्वेज प्रकाशित हुई। वैब्स्टर के बाद अँगरेजी कोशों के संशोधन और नए कोशों के प्रकाशन का व्यवसाय तेज़ी से बढ़ने लगा।
ऑक्सफोर्ड-इंग्लिश-डिक्शनरी आधुनिक कोशकला का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है।


दुनिया की सबसे बड़ी जीभ किसकी है?


गिनीज़ बुक के अनुसार दुनिया में इस वक्त किसी मनुष्य की सबसे लम्बी जीभ इंग्लैंड के स्टीफन टेलर की है। उनकी जुबान 9.8 सेंमी यानी 3.86 इंच लम्बी है। यह माप 11 फरबरी 2009 को ली गई थी।


स्त्रियों में सबसे लम्बी जीभ जर्मनी की एनिका इर्मलर की दर्ज की गई है। उनकी जीभ 7 सेमी यानी 2.76 इंच लम्बी है।




हावड़ा ब्रिज कब बना और किसने इसे बनवाया?

हावड़ा ब्रिज 1937 से 1943 के बीच बना। इसे डिज़ाइन किया रेंडल पामर एंड ट्रिटन कम्पनी ने। इसे बनाने का ठेका दिया गया क्लीवलैंड ब्रिज एंड इंजीनियरिंग कम्पनी को। इसमें लगे कुल 26500 टन इस्पात में से 23500 टन इस्पात टाटा आयरन एंड स्टील कम्पनी ने सप्लाई किया। इसका फैब्रिकेशन ब्रेथवाइट, बर्न एंड जेसप कम्पनी ने किया।

बिहार के पहले मुख्यमंत्री कौन थे?

डॉ श्रीकृष्ण सिन्हा

राहुल नाम का अर्थ क्या है?

राहुल का अर्थ है कुशल और योग्य। उपनिषदों में इसका अर्थ बताया गया है जो संकटों पर विजय प्राप्त करे। गौतम बुद्ध के पुत्र का नाम राहुल था।

दुनिया में सबसे कॉमन नाम क्या है?

मोटे तौर पर मुहम्मद एक ऐसा नाम है जो मुसलमानों में बेहद लोकप्रिय है। किसी दूसरे समुदाय में इतना लोकप्रिय नाम नहीं मिलता। यो चीन में ली और ईसाइयों में जैक लोकप्रिय नाम हैं। भारत में राज नाम काफी चलता है।

1 comment:

  1. Why users still make use of to read news papers when in
    this technological globe the whole thing is presented on web?
    Also see my page - skin tags

    ReplyDelete