Thursday, April 6, 2017

कोरम क्या होता है?

कोरम शब्द मूलत: लैटिन भाषा का है जो अंग्रेजी में भी चलता है. अब यह भारतीय भाषाओं में भी चलने लगा है. हिंदी में इसका समानार्थी शब्द गणपूर्ति है. किसी सभा, संसद, या संस्था की बैठक के लिए जरूरी न्यूनतम सदस्यों की संख्या को कोरम या गणपूर्ति कहते हैं. माना जाता है कि यदि इस न्यूनतम आवश्यक संख्या में सदस्य उपस्थित नहीं हों तो सभा वैध नहीं होगी. युनाइटेड किंगडम में हाउस ऑफ कॉमंस के लिए 40 सदस्यों की न्यूनतम उपस्थिति को और  हाउस ऑफ लॉर्ड्स में किसी विषय पर मतदान होना हो तो 30 सदस्यों की न्यूनतम उपस्थिति होनी चाहिए, पर केवल चर्चा के लिए 3 सदस्य ही काफी हैं. भारतीय संविधान के अनुच्छेद 100 के अनुसार संसद के दोनों सदनों  में गणपूर्ति सदन के कुल सदस्यों की संख्या का कम से कम दसवाँ भाग होगी. संविधान में लिखा गया है कि यदि सदन के अधिवेशन के दौरान गणपूर्ति नहीं है तो सभापति या अध्यक्ष या उस रूप में कार्य करने वाले व्यक्ति का यह कर्तव्य होगा कि वह सदन को स्थगित कर दे.
स्थगन प्रस्ताव क्या होता है?
हमारी संसद के दोनों सदनों के नियमों में सार्वजनिक महत्त्व के मामले बिना देरी किए उठाने की कई व्यवस्थाएं हैं, इनमें कार्य स्थगन प्रस्ताव भी है. इसके द्वारा लोक सभा के नियमित काम-काज को रोककर तत्काल महत्‍वपूर्ण मामले पर चर्चा कराई जा सकती है. इसके अलावा कई और तरीके हैं जैसे कि ध्यानाकर्षण, आपातकालीन चर्चाएं, विशेष उल्लेख, प्रस्‍ताव (मोशन), संकल्प, अविश्वास प्रस्‍ताव, निंदा प्रस्‍ताव वगैरह. दिन में कितनी बार सदन स्थगित हो सकता है, यह परिस्थितियों पर निर्भर करता है.
जेट लैग क्या होता है?
जेट लैग एक मनो-शारीरिक दशा है, जो शरीर के सर्केडियन रिद्म में बदलाव आने के कारण पैदा होती है. इसे सर्केडियन रिद्म स्लीप डिसॉर्डर भी कहते हैं. इसका कारण लम्बी दूरी की हवाई यात्रा खासतौर से पूर्व से पश्चिम या पश्चिम से पूर्व एक टाइम ज़ोन से दूसरे टाइम ज़ोन की यात्रा होती है. अक्सर शुरुआत में नाइट शिफ्ट पर काम करने आए लोगों के साथ भी ऐसा होता है. आपका सामान्य जीवन एक खास समय के साथ जुड़ा होता है. जब उसमें मूलभूत बदलाव होता है तो शरीर कुछ समय के लिए सामंजस्य नहीं बैठा पाता. अक्सर दो-एक दिन में स्थिति सामान्य हो जाती है. इसमें सिर दर्द, चक्कर आना, उनींदा रहना, थकान जैसी स्थितियाँ पैदा हो जाती है.
नमस्ते बोलना कब से शुरू हुआ?
नमः यानी प्रणाम. नमः+ते = नमस्ते= आपको प्रणाम. नमः+कार=नमस्कार...अर्थात नमन करता हूँ. हिन्दू शास्त्रों में पाँच प्रकार के अभिवादन बतलाए गए है. 1-प्रत्युथान, 2-नमस्कार, 3-उपसंग्रहण, 4-साष्टांग और 5-प्रत्याभिवादन यानी अभिनंदन का अभिनंदन से जवाब देना. यह कब से शुरू हुआ होगा, कहना मुश्किल है, पर कम से कम तीन से चार हजार साल पहले शुरू हुआ होगा जब संस्कृत का विकास हुआ.
भारत का पहला रेडियो स्टेशन कहाँ बना?
भारत में रेडियो प्रसारण की शुरूआत 1920 के दशक में हुई. पहला कार्यक्रम 1923 में मुंबई के रेडियो क्‍लब द्वारा प्रसारित किया गया. इसके बाद 1927 में मुंबई और कोलकाता में निजी स्‍वामित्‍व वाले दो ट्रांसमीटरों से प्रसारण सेवा की स्‍थापना हुई. सन 1930 में सरकार ने इन ट्रांसमीटरों को अपने नियंत्रण में ले लिया और भारतीय प्रसारण सेवा के नाम से उन्‍हें परिचालित करना आरंभ कर दिया. 1936 में इसका नाम बदलकर ऑल इंडिया रेडियो कर दिया और 1957 में आकाशवाणी के नाम से पुकारा जाने लगा.

प्रभात खबर अवसर में प्रकाशित

No comments:

Post a Comment