Thursday, October 13, 2016

क्यों महत्वपूर्ण है पेरिस समझौता

जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौता चार नवंबर को प्रभाव में आएगा. इस समझौते को लागू करने के लिए 55 प्रतिशत वैश्विक ग्रीनहाउस उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार कम से कम 55 देशों के हस्ताक्षर आवश्यक थे और यह आंकड़ा पार करने के साथ ही इस समझौते को लागू किए जाने का रास्ता साफ हो गया. कुल 72 देशों ने इस समझौते का अनुमोदन किया है जो 56 प्रतिशत वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार हैं. शर्त यह थी कि यह समझौता तभी लागू होगा, जब कम से कम 55 देश इसमें शामिल हों जो कम के कम 55 वैश्विक ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन करते हैं. यह शर्त 2 अक्तूबर 2016 को भारत के इसमें शामिल होने के बाद पूरी हो गई है.

सिडबी क्या है?
स्मॉल इंडस्ट्रीज़ डेवलपमेंट बैंक ऑफ इंडिया (SIDBI) देश में लघु, छोटे और मध्यम दर्जे के उद्यमों के विकास में सहायता देने के लिए बनाया गया स्वतंत्र वित्तीय संस्थान है. प्रारम्भ में यह इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट बैंक ऑफ इंडिया (IDBI) का अनुषंगी संगठन था. इस वक्त इसका स्वामित्व भारत सरकार के स्वामित्व और नियंत्रण वाली 34 संस्थाओं के पास है. शुरू में इसने छोटे उद्यमों के लिए बैंकों और राज्य-स्तरीय संस्थाओं के पुनर्वित्त पोषण का काम किया था. बाद में इसने अपनी 100 शाखाओं के मार्फत अपनी गतिविधियाँ बढ़ा दीं, जिनमें छोटे उद्यमों को सीधे कर्ज देना भी शामिल है.

नए संयुक्त राष्ट्र महासचिव
पुर्तगाल के एंतोनियो गुतेख (António Guterres)  संयुक्त राष्ट्र के अगले महासचिव होंगे. गुरुवार 6 अक्तूबर को संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में उनके नाम की पुष्टि के लिए औपचारिक मतदान हुआ. 66 वर्षीय गुटेरेश संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी संस्था की 10 साल तक अगुवाई कर चुके हैं. वे अगले साल बान की मून की जगह लेंगे. सुरक्षा परिषद के 15 सदस्यों ने बुधवार 5 अक्तूबर को 10 उम्मीदवारों के लिए गुप्त मतदान किया. किसी ने भी गुटेरेश का विरोध नहीं किया. गुटेरेश ने यूरोपीय संघ बजट कमिश्नर बुगुरियाई क्रस्टलीना जॉर्जिवा और नौ अन्य प्रत्याशियों को परास्त किया. इस बार उम्मीद थी कि कोई महिला संयुक्त राष्ट्र महासचिव बन सकती है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

भारत का पहला बैंक
अठारहवीं सदी के अंतिम दशक में देश के पहले बैंक खुले थे. इनके नाम थे जनरल बैंक ऑफ इंडिया, जो 1786 में खुला और दूसरा बैंक था बैंक ऑफ हिन्दुस्तान जो 1790 में शुरू हुआ. दोनों बैंक बंद हो गए. इस वक्त देश के सक्रिय बैंकों में सबसे पुराना स्टेट बैंक ऑफ इंडिया है, जो जून 1806 में बैंक ऑफ कैलकटा के नाम से शुरू हुआ. इसका नाम बाद में बैंक ऑफ बंगाल हो गया. उस वक्त देश में इसके अलावा दो प्रेसीडेंसी बैंक और खुले बैंक ऑफ बॉम्बे और बैंक ऑफ मद्रास. सन 1921 में तीनों बैंकों को मिलाकर इम्पीरियल बैंक ऑफ इंडिया बनाया गया. भारत के स्वतंत्र होने पर इसका नाम हुआ स्टेट बैंक ऑफ इंडिया.
  
राहुल की किसान यात्रा
उत्तर प्रदेश में चुनाव अभियान के लिए निकले कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एक महीने के दौरान देवरिया से दिल्ली तक की क़रीब 35 सौ किमी की यात्रा की और 6 अक्तूबर को दिल्ली वापस पहुँचे. उन्होंने 6 सितम्बर को यह यात्रा शुरू की थी. इस दौरान राहुल गांधी ने 26 दिन किसानों के साथ बिताए, 48 ज़िलों में 26 खाट सभाएं कीं, 26 रोड शो किए और क़रीब सात सौ जगहों पर कार्यकर्ताओं से मुलाक़ात की.

भारत का पहला संचार उपग्रह
भारत के नवीनतम संचार उपग्रह जीसैट-18 का फ्रेंच गुयाना में कोउरू के अंतरिक्ष केंद्र से एरियान स्पेस रॉकेट के जरिए गुरुवार (6 अक्टूबर) को प्रक्षेपण किया गया. ऐसे में यह जान लेना उपयोगी हगा कि देश का पहला संचार उपग्रह एरियान पैसेंजर पेलोड एक्सपैरिमेंट (APPLE) था जिसे 19 जून, 1981 को इसी कोउरू से एरियान-1 द्वारा सफलता पूर्वक छोड़ा गया था. एपल ने इसरो को त्रि-अक्षीय स्थिरीकृत भूस्थिर संचार उपग्रहों के डिजाइन इत्यादि के लिए बहुमूल्य अनुभव प्रदान किया. एपल का टीवी कार्यक्रमों के प्रसारण एवं रेडियो नेटवर्किंग सहित कई संचार परीक्षणों में उपयोग किया गया. इसे 13 अगस्त, 1981 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने राष्ट्र को समर्पित किया. इसके बाद 15 अगस्त को लाल किले के प्राचीर से राष्ट्र के नाम प्रधानमंत्री का संबोधन एपल के मार्फत द्वारा सीधा प्रसारित किया गया.

तितली की कितनी आँखें?                                   
तितली की भी दो आँखें होती हैं, पर उसकी आँखें कम्पाउंड यानी संयुक्त होती हैं. उसके अनेक फोटोरिसेप्टर होते हैं. इस तरह देखें तो उसके हजारों आँखें होती हैं. मोटे तौर पर करीब बारह से बीस हजार. इनकी आंखें बड़ी और गोलाकार होती हैं. इनमें हज़ारों सेंसर होते हैं जो अलग- अलग कोण में लगे रहते हैं. वे ऊपर, नीचे, आगे, पीछे, दाएँ, बाएँ सभी दिशाओं में एक साथ देख सकती हैं. पर वे किसी चीज़ पर अपनी दृष्टि एकाग्र नहीं कर पातीं और उन्हें धुंधला दिखाई देता है.

प्रभात खबर अवसर में प्रकाशित

1 comment:

  1. आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति लाला हरदयाल जी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।

    ReplyDelete