Friday, April 15, 2016

समुद्र का पानी नमकीन क्यों होता है?

समुद्र से भाप उठती है जिससे बादल बनते हैं और बारिश होती है और इसी से नदियों और झरनों में पानी आता है। नदियों और झरनों के पानी में प्रकृति के अन्य पदार्थों से आए लवण घुलते हैं। लेकिन क्योंकि उनकी मात्रा कम होती है इसलिए नदी झरनों का पानी हमें मीठा ही लगता है। लेकिन जब यह पानी समुद्र में पहुंचता है तो वहां लवण जमा होते जाते हैं। इनमें ख़ास दो लवण हैं सोडियम और क्लोराइड जो नमक बनाते हैं। जब ये समुद्र में पहुंच जाते हैं तो करोड़ों साल तक वहीं जमा रहते हैं। इसीलिए समुद्र का पानी हमें खारा लगता है।

दुनिया के अलग-अलग समुद्रों के पानी में अलग-अलग मात्रा में खारा होता है। सामान्यतः 1000 ग्राम या एक लिटर समुद्री पानी में 35 ग्राम (सात चम्मच) नमक होता है। इसे पार्ट्स पर थाउजैंड (पीपीटी) कहते हैं। सामान्यतः समुद्रों का पानी 34 से 36 पीपीटी नमकीन होता है, पर यूरोप के पास के भूमध्य सागर का पानी 38 पीपीटी है।

ऑस्कर पुरस्कार में किस व्यक्ति की प्रतिमा दी जाती है?
यह प्रतिमा किसी खास व्यक्ति की नहीं होती। सन 1927 में एकेडमी ऑफ़ मोशन पिक्चर्स आर्ट्स एंड साइंसेस की बैठक में जब ट्रॉफ़ी के डिज़ाइन पर चर्चा हुई तो लॉस एंजेलस के कई कलाकारों से अपने-अपने डिज़ाइन सामने रखने को कहा गया। इनमें सबसे ज्यादा पसन्द की गई मूर्तिकार जॉर्ज स्टैनली की प्रतिमा। इसमें फ़िल्म की रील पर खड़े एक आदमी को हाथ में एक तलवार पकड़े दिखाया गया है।

1929 से अब तक दो हज़ार से ज़्यादा ऑस्कर ट्रॉफ़ियां दी जा चुकी हैं। इनका निर्माण शिकागो की आर एस ओएंस एंड कम्पनी के सुपुर्द है। उन्हें पचास प्रतिमाएं बनाने में तीन से चार सप्ताह का समय लगता है। शुरु में यह प्रतिमा तांबे की बनती थी क्योंकि विश्व युद्ध के दौरान धातु की कमी थी, लेकिन अब यह सोने का पानी चढ़े ब्रिटैनियम से बनती है। ऑस्कर ट्रॉफ़ी तेरह इंच लम्बी होती है और इसका वज़न होता है आठ पौंड।

ऑस्कर पुरस्कार अमेरिका की एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर्स आर्ट्स एंड साइंसेस की ओर से दिए जाते हैं। ये पुरस्कार मूलतः हॉलीवुड की और अंग्रेजी फिल्मों के लिए बने हैं। इसमें एक पुरस्कार अमेरिका से बाहर बनी और गैर-अंग्रेजी फिल्म की सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए भी है। विदेशी भाषा की यह श्रेणी 1956 के पहले नहीं होती थी। अलबत्ता 1947 से 1955 तक अमेरिका में रिलीज हुई एक विदेशी भाषा की फिल्म को मानद पुरस्कार दिया जाता था। वह पुरस्कार प्रतियोगिता का हिस्सा नहीं था। 1956 से यह प्रतियोगिता का हिस्सा हो गया यानी उसके लिए कुछ फिल्मों का नामांकन होने लगा, जिनमें से एक को पुरस्कार दिया जाने लगा।

भारत की आज़ादी के समय ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कौन थे?

भारत की आज़ादी के समय ब्रिटेन के प्रधानमंत्री थे लेबर पार्टी के क्लैमैन्ट ऐटली जो 1945 से 1951 तक इस पद पर रहे। उनके कार्यकाल में भारत को ही नहीं बल्कि म्यांमार और श्रीलंका को भी आज़ादी मिली जिन्हें तब बर्मा और सीलोन के नाम से जाना जाता था।

ह्वाइट कॉलर जॉब क्या है?

ह्वाइट कॉलर शब्द एक अमेरिकी लेखक अपटॉन सिंक्लेयर ने 1930 के दशक में गढ़ा. औद्योगीकरण के साथ शारीरिक श्रम करने वाले फैक्ट्री मजदूरों की यूनीफॉर्म डेनिम के मोटे कपड़े की ड्रेस हो गई। शारीरिक श्रम न करने वाले कर्मचारी सफेद कमीज़ पहनते। इसी तरह खदानों में काम करने वाले ब्लैक कॉलर कहलाते। सूचना प्रौद्योगिकी से जुड़े कार्मिकों के लिए अब ग्रे कॉलर शब्द चलने लगा है।

सिंगापुर का धर्म क्या है?
सिंगापुर धर्मनिरपेक्ष देश है। यहां कोई 42।5 प्रतिशत लोग बौद्ध हैं, 8।5 प्रतिशत ताओवादी, 14 प्रतिशत मुसलमान, 15 प्रतिशत ईसाई, 4 प्रतिशत हिन्दू और 15 प्रतिशत अन्य हैं। सिंगापुर की 1819 में ब्रिटेन की एक व्यापारिक उपनिवेश के रूप में स्थापना हुई थी। 1963 में यह मलेशिया संघ में शामिल हुआ और दो साल बाद ही स्वतन्त्र हो गया।


राजस्थान पत्रिका के नॉलेज कॉर्नर में 27 मार्च को प्रकाशित

1 comment:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " भगवान खो गए - ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete