Friday, April 8, 2016

वेस्टइंडीज किसी एक देश का नाम नहीं है

टी-20 विश्व कप प्रतियोगिता में जीत के बाद कई लोगों के मन में यह सवाल आया है कि क्या वेस्टइंडीज कोई देश है? देश नहीं है तो उसकी टीम किस आधार पर है? उसका झंडा क्यों है वगैरह? उत्तरी अटलांटिक महासागर के कैरीबियन बेसिन से जुड़े इलाके के अनेक द्वीपों को वेस्टइंडीज कहते हैं। यूरोप के लोगों ने इस इलाके को दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया (यानी भारत से) अलग करने के लिए यह नाम दिया था।

इस इलाके के अलग-अलग द्वीप सत्रहवीं से उन्नीसवीं सदी तक ब्रिटिश, डेनिश, नीदरलैंड्स और स्पेनिश उपनिवेश रहे। सन 1916 में डेनमार्क ने अपने अधीन क्षेत्र डाई करोड़ डॉलर सोने की कीमत लेकर संयुक्त राज्य अमेरिका को बेच दिया। इसे यूएस वर्जिन आइलैंड्स के नाम से जाना जाता है। सन 1958 से 1962 के बीच युनाइटेड किंगडम ने एक स्वतंत्र देश के रूप में वेस्टइंडीज संघ भी बनाया, पर 1963 में यह संघ भंग हो गया और नौ स्वतंत्र देश और चार ब्रिटिश ओवरसीज टेरीटरी बन गईं। इस इलाके में सबसे ज्यादा पश्चिम अफ्रीकी मूल के लोग रहते हैं। इनके अलावा भारतीय और चीनी मूल के लोग भी हैं। वेस्टइंडीज संघ में 24 मुख्य द्वीप और 220-230 के आस-पास छोटे अपतटीय द्वीप और टापू वगैरह थे।

सबसे बड़ा द्वीप जमैका था जो उत्तर पश्चिम में है, दूसरे बड़े द्वीप त्रिनिडाड और बारबेडस हैं। प्रमुख शहरों में किंग्स्टन, पोर्ट ऑफ़ स्पेन, ब्रिजटाउन, स्पेनिश टाउन, मोंटेगो बे, मांडेविल, कैसेट्रीस, रोसिउ, सेंट जॉर्ज, किंग्सटाउन, सेंट जॉन्स और बस्सेटेरे शामिल हैं। वेस्टइंडीज़ संघ भंग होने के बाद स्वतंत्र हुए देश इस प्रकार थे: बारबेडस-1966, ग्रेनेडा-1974, डोमिनिका-1978, सेंट लूसिया-1979, सेंट विनसेंट और ग्रेनेडाइंस-1979, एंटीगुआ और बारबुडा-1981, सेंट किट्स और नेविस-1983।

15 देशों के खिलाड़ी
वेस्टइंडीज ने दुनिया को श्रेष्ठ क्रिकेट खिलाड़ी दिए हैं। इनमें वॉरेल, वॉल्कॉट और वीक्स के अलावा सोबर्स, कन्हाई, कालीचरन, गिब्स और रिचर्ड्स जैसे नाम हैं। पर इस इलाके ने उसेन बोल्ट, शैली एन, फ्रेजर प्राइसी और मार्लिन ओट्टी जैसे विश्व चैम्पियन धावक भी दिए है। पर वे अपने देशों के नाम से उतरते हैं। केवल क्रिकेट टीम ही वेस्टइंडीज नाम से मैदान में उतरती है। क्रिकेट टीम 15 देशों के क्रिकेट संघ की टीम है। इनमें मुख्य देश हैं एंटीगुआ और बारबुडा, बारबेडस, डोमिनिका, ग्रेनेडा, गुयाना, जमैका, सेंट लूसिया, सेंट विनसेंट और ग्रेनेडाइंस, ट्रिनिडाड और टुबैगो। इनके अलावा सेंट किट्स और नेविस के कुछ हिस्से। साथ ही ब्रिटिश, डच और अमेरिका के अधीनस्थ कुछ इलाकों का भी इस टीम में प्रतिनिधित्व है।

इन इलाकों की अलग-अलग टीमें भी हैं जो वेस्टइंडीज की प्रतियोगिताओं में भाग लेती हैं। वेस्टइंडीज की टीम का इतिहास 1890 के दशक से शुरू होता है, जब इंग्लैंड से आई एक टीम के खिलाफ स्थानीय टीम बनाई गई। वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड इस खेल की अंतरराष्ट्रीय संस्था इम्पीरियल क्रिकेट कांफ्रेंस में 1926 में शामिल हुआ। उसे 1928 में टेस्ट स्टेटस हासिल हुआ। इस तरह वह इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण के बाद टेस्ट क्रिकेट खेलने वाली चौथी टीम बनी। इसके दो साल बाद न्यूजीलैंड को 1930 में और चार साल बाद भारत को 1932 में टेस्ट क्रिकेट खेलने का स्टेटस हासिल हुआ। 

क्रिकेट टीम का विशेष ध्वज और गान

ज्यादातर देश क्रिकेट टीम के लिए राष्ट्रीय ध्वज का इस्तेमाल करते हैं। चूंकि वेस्टइंडीज एक नहीं अनेक देशों की टीम है इसलिए वह अपना अलग ध्वज इस्तेमाल करती है, जिसमें एक द्वीप में क्रिकेट स्टम्प और ताड़ का एक पेड़ बना है। चूंकि यह अनेक देशों की टीम है इसलिए किसी एक देश के राष्ट्रगान के बजाय इसके लिए एक विशेष गीत लिखा गया है, जिसकी शुरूआती पंक्तियाँ हैं
रैली राउंड द वेस्टइंडीज। इसे डेविड रडर ने लिखा है।

राजस्थान पत्रिका के मी नेक्स्ट में प्रकाशित

1 comment: