Sunday, January 25, 2015

खतरे के संकेतों के लिए लाल रंग का ही प्रयोग क्यों होता है?

कादम्बिनी, ज्ञानकोश, नवंबर, 2012

खतरे के संकेतों के लिए लाल रंग का ही प्रयोग क्यों होता है, दूसरे रंगों का क्यों नहीं?
नीतू कनौजिया, 43-ए, गली नंबर-6, डिफेंस एंक्लेव, पार्ट-2, मोहन गार्डन, दिल्ली-110059

वैज्ञानिक अध्ययनों से पता लगा है कि लला रंग मनुष्य का ध्यान खींचता है। खतरे का निशान ध्यान खींचने के लिए होता है इसलिए इसके लिए लाल रंग उपयुक्त पाया गया। इसीलिए ट्रैफिक सिग्नल और रेलगाड़ियों के सिग्नल में लाल रंग रोकने के लिए इस्तेमाल होता है। अक्सर अखबारों की सुर्खियाँ लाल रंग में होती हैं। सुर्ख शब्द का अर्थ ही लाल है। कारों की टेल लाइट, लेबलों और होर्डिंगों में लाल रंग वहीँ इस्तेमाल होता है जहाँ ध्यान खींचना हो।

दुनिया में समुद्रों का निर्माण कैसे हुआ?
राजेश नेमा, लक्ष्मीकांत मंदिर, सिंहपुर बड़ा, जिला-नरसिंहपुर-487110 (म.प्र.)

धरती जब नई-नई थी तब वह बेहद गर्म थी। यानी अब से तकरीबन 4.5 अरब साल पहले धरती भीतर से तो गर्म थी ही उसकी सतह भी इतनी गर्म थी कि उस पर तरल जल बन नहीं पाता था। उस समय के वायुमंडल को हम आदि वायुमंडल (प्रोटो एटमॉस्फीयर) कहते हैं। उसमें भी भयानक गर्मी थी। पर पानी सृष्टि का हिस्सा है और सृष्टि के विकास के हर दौर में किसी न किसी रूप में मौज़ूद रहा है। धरती उस गर्म दौर में भी खनिजों के ऑक्साइड और वायुमंडल में धरती से निकली हाइड्रोजन के संयोग से गैस के रूप में पानी पैदा हो गया था। पर वह तरल बन नहीं सकता था। धरती के वायुमंडल के धीरे-धीरे ठंडा होने पर इस भाप ने बादलों की शक्ल ली। इसके बाद लम्बे समय तक धरती पर मूसलधार बारिश होती रही। यह पानी भाप बनकर उठता और संघनित (कंडेंस्ड) होकर फिर बरसता। इसी दौरान धरती की सतह भी अपना रूपाकार धारण कर रही थी। ज्वालामुखी फूट रहे थे और धरती की पर्पटी या क्रस्ट तैयार हो रही थी। धीरे-धीरे स्वाभाविक रूप से पानी ने अपनी जगह बनानी शुरू की। धरती पर जीवन की शुरूआत के साथ पानी का भी रिश्ता है। जहाँ तक महासागरों की बात है पृथ्वी की सतह का लगभग 72 फीसदी हिस्सा महासागरों के रूप में है। दो बड़े महासागर प्रशांत और अटलांटिक धरती को लम्बवत महाद्वीपों के रूप में बाँटते हैं। हिन्द महासागर दक्षिण एशिया को अंटार्कटिक से अलग करता है और ऑस्ट्रेलिया तथा अफ्रीका के बीच के क्षेत्र में फैला है। एक नज़र में देखें तो पृथ्वी विशाल महासागर है, जिसके बीच टापू जैसे महाद्वीप हैं। इन महाद्वीपों का जन्म भी धरती की संरचना में लगातार बदलाव के कारण हुआ।

बिना पायलेट के एयरक्राफ्ट को क्या कहते हैं?
कुमुद शर्मा, द्वारा के. के. शर्मा, 45/33, नागला अजीता, सेंट्रल जेल के पीछे, आगरा-282002 (उ.प्र.)

बिना पायलट के विमान से आपका आशय अनमैन्ड एरियल ह्वीकल (यूएवी) से है, जिन्हें रिमोटली पायलटेड ह्वीकल भी कहते हैं। आजकल नेटो की सेनाओं द्वारा अफगानिस्तान में इस्तेमाल हो रहे ड्रोन भी इसी श्रेणी के विमान हैं। ये पूरी तरह विमान है। इनमें केवल पायलट नहीं होते और न यात्री होते हैं। इनका इस्तेमाल आमतौर पर युद्ध में होता है। बमबारी या टोही उड़ान के लिए ये खासे उपयुक्त होते हैं। इनमें लगे कैमरे तस्वीरें और वीडियो शूट करके लाते हैं। हालांकि प्रक्षेपास्त्र भी दूर नियंत्रित होते हैं, पर प्रक्षेपास्त्रों का दुबारा इस्तेमाल नहीं होता, जबकि ये विमान अपना मिशन पूरा करने के बाद लौट आते हैं और दुबारा इस्तेमाल में लाए जा सकते हैं। यात्री विमानों में अब ऑटो पायलट तकनीक या फ्लाई बाई वायर तकनीक का इस्तेमाल होने लगा है, पर उन्हें चालक रहित विमान नहीं कहा जा सकता।

प्रत्यक्ष विदेशी निवेश क्या होता है?
पे्रम बड़गोत्या, फ्लैट-601, मालवीय टॉवर, ओ. एन. जी. सी. कॉलोनी, अंकलेश्वर-393010 (गुजरात)

प्रत्यक्ष विदेशी निवेश से आशय है किसी देश के कारोबार या उद्योग में किसी दूसरे की कम्पनियों द्वारा किया गया पूँजी निवेश। यह काम किसी कम्पनी को खरीद कर या नई कम्पनी खड़ी करके या किसी कम्पनी की हिस्सेदारी खरीद कर किया जाता है। विदेशी पूँजी निवेश के दो रूपों का जिक्र हम अक्सर सुनते हैं। एक है प्रत्यक्ष विदेशी पूँजी निवेश(एफडीआई)और दूसरा है विदेशी संस्थागत पूँजी निवेश(एफआईआई)। एफआईआई प्राय: अस्थायी निवेश है, जो शेयर बाज़ार में होता है। इसमें निवेशक काफी कम अवधि में फायदा या नुकसान देखते हुए अपनी रकम निकाल कर ले जाता है। एफडीआई में निवेश लम्बी अवधि के लिए होता है।


गाय और भैंस के दूध में कौन-कौन से पोषक तत्व होते हैं? दोनों में से किसका दूध श्रेष्ठ होता है?
विभव सक्सेना, बल्लभ नगर कॉलोनी, पीलीभीत (उ.प्र.)

दूध में 85 प्रतिशत पानी और शेष भाग में वसा और खनिज होते हैं। इसमें प्रोटीन, कैल्शियम और राइबोफ्लेविन (विटैमिन बी-2) होता है। इनके अलावा इसमें विटैमिन ए, डी, के और ई सहित फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, आयडीन, कई तरह के एंजाइम भी होते हैं। गाय और भैंस के दूध में किसका दूध श्रेष्ठ होता है इसे लेकर कोई आम राय नहींं है। आयुर्वेद में गाय के दूध को बेहतर माना गया है। यह भी कहा जाता है कि गाय के दूध में एटू बीटा प्रोटीन होता है, जो मधुमेह और मस्तिष्क के विकास में सहायक होता है। यह भी कहा जाता है कि यह प्रोटीन देसी गाय में ही मिलता है जर्सी और हॉलस्टीन नस्ल की गायों में नहीं। पर कुछ वैज्ञानिक यह भी कहते हैं कि गाय के दूध में प्रति ग्राम 3.14 मिलीग्राम कोलेस्ट्रॉल होता है, जबकि भैंस के दूध में यह प्रति ग्राम 0.65 मिली ग्राम होता है। इस लिहाज से छोटे बच्चों को इसे पचाने में दिक्कत हो सकती है। और यह भी कि भैंस के दूध में कैल्शियम, लोह और फॉस्फोरस ज्यादा होता है। मोटे तौर पर दूध शरीर के लिए स्वास्थ्यर्वधक है। इस बहस में पड़ना उचित नहीं कि गाय या भैंस में किसका दूध बेहतर है।

मिट्टी के बर्तन में पानी ठंडा क्यों रहता है?
रीता जैन, 49-एच. आई. जी., ममफोर्ड गंज, इलाहाबाद-211002 (उ.प्र.)

जब किसी तरल पदार्थ का तापमान बढ़ता है तो भाप बनती है। भाप के साथ तरल पदार्थ की ऊष्मा भी बाहर जाती है। इससे तरल पदार्थ का तापमान कम रहता है। मिट्टी के बर्तन में रखा पानी उस बर्तन में बने असंख्य छिद्रों के सहारे बाहर निकल कर बाहरी गर्मी में भाप बनकर उड़ जाता है और अंदर के पानी को ठंडा रखता है। बरसात में वातावरण में आद्र्रता ज्यादा होने के कारण भाप बनने की यह क्रिया धीमी पड़ जाती है, इसलिए बरसात में यह असर दिखाई नहीं पड़ता।

बच्चों में बड़ों की अपेक्षा अधिक हड्डियां क्यों होती हैं?
नितिषा गोयल, 9-एम.आई.जी., ममफोर्डगंज, त्रिपाठी चौराहे के पास, इलाहाबाद-211002 (उ.प्र.)

बच्चों के शरीर की तमाम हड्डियाँ उम्र बढ़ने के साथ एक-दूसरे से जुड़कर एक बन जाती हैं। आपने देखा होगा कि एकदम नन्हे बच्चों के सिर में मुलायम हिस्सा होता है। उस वक्त सिर की हड्डी कई भागों में होती है। बाद में वह एक बन जाती है।

सिक्ससेंस से क्या तात्पर्य है?
अमित पटेरिया, एमएलबी कालेज के पास, अचलेश्वर टॉवर, फ्लैट न. 102, लश्कर, ग्वालियर, म.प्र.-474009

सामान्यत: मनुष्य की पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ मानी जाती हैं। देखना, सुनना, स्पर्श करना, सूँघना और स्वाद लेना। सिक्स्थ सेंस का मतलब है इनसे अलग का अनुभव। इसे अतीन्द्रिय ज्ञान या परामानसिक अनुभव कहते हैं। हमें भीतरी रूप से महसूस होना या अंतर्मन आदि। इसका वैज्ञानिक आधार नहीं है, पर इसके काफी उदाहरण मिलते हैं। मसलन किसी को सपने में कोई बात दिखाई पड़ती है जो सच हो जाती है।

हमारे राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह पर उत्कीर्ण ‘सत्यमेव जयते’ कहां से लिया गया है? पूरा मंत्र क्या है और उसका अर्थ क्या है?
कदम, जमशेदपुर-831005.

‘सत्यमेव जयते’ मूलत: मुण्डक उपनिषद का मंत्र 3.1.6 है। पूरा मंत्र इस प्रकार है:- सत्यमेव जयते नानृतम सत्येन पंथा विततो देवयान:। येनाक्रमंत्यृषयो ह्याप्तकामो यत्र तत् सत्यस्य परमम् निधानम्।। अर्थात आखिरकार सत्य की जीत होती है न कि असत्य की। यही वह राह है जहाँ से होकर आप्तकाम (जिनकी कामनाएं पूर्ण हो चुकी हों) मानव जीवन के परम लक्ष्य को प्राप्त करते हैं। सत्यमेव जयते को स्थापित करने में पं मदनमोहन मालवीय की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

जब केबिल टी.वी. चलता है तो कभी-कभी अंग्रेजी में कुछ संख्याएं एवं अंग्रेजी के अक्षर क्यों आ जाते हैं?इन संख्यांओं एवं अक्षरों के आने का तात्पर्य क्या है?
अनिल कुमार श्रीवास्तव, म.नं. बी-228, संचार विहार, आई.टी.आई. टाउनशिप, मनकापुर-271308.जिला-गोण्डा (उ.प्र.)।

आमतौर पर प्रसारण करने वाले कुछ देर के लिए विशेष कोड का प्रसारण भी करते हैं। उनका उद्देश्य यह देखना होता है कि कार्यक्रम का प्रसारण वैध स्रोत से हो रहा है अथवा नहीं।

 चन्द्रमा  पर ध्वनि क्यों नहीं सुनाई देती है?
नीतू कनौजिया, 43 ए, गली नं. 6 निकट काली माता मंदिर, डिफेंस इंक्लेव, मोहन गार्डन, दिल्ली-59.
ध्वनि की तरंगों को चलने के लिए किसी माध्यम की ज़रूरत होती है। चन्द्रमा पर न तो हवा है और न किसी प्रकार का कोई और माध्यम है। इसलिए आवाज़ सुनाई नहीं पड़ती।


2 comments:

  1. बहुत अच्छी जानकारी प्रदान की है आपने ,अत्यधिक लोगों को इनका ज्ञान नहीं है जब कि रोजमर्राह हम इनसे आमने सामने होते हैं ,आभार

    ReplyDelete